ध्यान क्रिया हमारी पुरातन भारतीय पद्धति है, जो हमारे मन-मस्तिष्क को शांत व एकाग्रचित्त बनाने में हमारी मदद करती है। शांत व एकाग्रचित्त से हम अपने लक्ष्य को आसानी से हासिल कर सकते है। ऐसा माना जाता है कि ध्यान क्रिया करने के लिए आश्रम या शांत स्थल की जरूरत होती है। मगर आपको ध्यान का अभ्यास हो तो आप अपने घर पर भी आराम से मेडिटेशन कर सकते है। घर में मेडिटेशन करना किसी विशेषज्ञ द्वारा सिखाए जाने के अपने परंपरागत दृष्टिकोण में भी अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। घर में मेडिटेशन करना उन लोगों के लिए सबसे अच्छा सहारा है, जो लोग विशेषज्ञों से मेडिटेशन की तकनीकों को सीखने में सक्षम नहीं हो पाते है।

घर में बिना प्रशिक्षक कैसे मेडिटेशन करें ?

मेडिटेशन के कई प्रकार हैं। जिनमें से आप अपने सुविधानुसार मेडिटेशन का एक प्रकार तय कर सकते है। मेडिटेशन का समय आपके चयन पर निर्भर करता है। जब आपके पास समय हो, तब आप ध्यान क्रिया  करें। आइए जानते है- घर में मेडिटेशन कैसे करें। 

1- घर पर ध्यान क्रिया शुरू करने के लिए सबसे पहले आप एक स्थान चुन लें। जहां शांतिपूर्ण वातावरण हो, क्योंकि मेडिटेशन करने के लिए शोर व प्रदूषण का ना होना बहुत ही महत्वपूर्ण है। अगर आप घर में मेडिटेशन कर रहे हैं, तो इन बातों का खास ध्यान दें। 

2- ध्यान क्रिया के दौरान सीधा बैठने की कोशिश करें। अपनी रीढ़ को अपने शरीर का बिना दबाव डालें अपने सुविधानुसार सीधा रखने की कोशिश करें। आप ध्यान क्रिया के लिए साफ फर्श, बिस्तर, कुर्सी का इस्तेमाल कर सकते है। मेडिटेशन के दौरान सामान्य स्थिति की चौकड़ी लगाकर अपने सुविधानुसार बैठना चाहिए। जब हम सही व सुविधाजनक स्थिति में बैठेंगे, तो हम आराम से मेडिटेशन कर पाएंगे। ध्यान क्रिया का प्रभाव आपके बैठने की स्थिति पर निर्भर करता है।  

3- मेडिटेशन के दौरान अपने मन को शांत व एकाग्रचित्त रखने की कोशिश करें। अपने मन के विचारों को आने दें। गहरी सांसों के साथ मेडिटेशन की शुरुआत करें। अपने मन को सोचने के लिए मजबूर ना करें। अपनी सांसों की गति को एकाग्रता के साथ महसूस करना शुरू करें।

4- मेडिटेशन करते वक्त अपने ध्यान को केंद्रित करने का प्रयास करें। हमारी स्थित हर रोज एक समान नहीं रहती है। इसलिए हमें अपनी सांस लेने के तरीके पर अपना ध्यान आकर्षित करना चाहिए। मेडिटेशन के दौरान गहरी सांस लेने और छोड़ने की कोशिश करें। अपनी सांसों की गति से अपनी एकाग्रता को धीरे-धीरे विकसित करने की कोशिश करें।

5- ध्यान योग के दौरान अपने विचारों की गति पर नियंत्रण रखने की कोशिश करें। जिससे आपको अपने मन को स्थिर करने में मदद मिलेगी। चाहे आप मेडिटेशन के किसी भी प्रकार का चयन करें, मगर  नियमित अभ्यास के मदद से ही आप मेडिटेशन की जटिलता को घर पर आसानी से समझ सकते हैं।  

ध्यान क्रिया आपको मानसिक व शारीरिक रूप से शक्ति, शांत, एकाग्रता व ऊर्जा प्रदान करती है। मेडिटेशन के जरिए हम अपने मस्तिष्क से नकारात्मक विचारों को दूर कर हमारे मन में शांति व चेतना का प्रवाह कराती है। मन को शांति व एकाग्रचित्त रखने के लिए हमें अपने दिनचर्या में ध्यान को शामिल करने की जरूरत है। 

No responses yet

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *