जब गर्मियों का मौसम आता है, तो हमारे सामने सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि मेडिटेशन कब और कैसे करें ? क्योंकि गर्मियों के मौसम में गर्मी की वजह से हमारा मन सही से किसी काम में नहीं लग पाता है। इसलिए हमारे मन में सवाल उठते हैं- आखिर गर्मी के मौसम में मेडिटेशन कब और कैसे करेंगे ? ऐसे में हम आपको बताना चाहेंगे कि आपको प्रातः काल जल्द उठकर मेडिटेशन करना चाहिए, जबकि आप सर्दियों में प्रातः काल आलस के कारण नहीं उठ पाते होगे। मगर गर्मियों में सबसे अच्छा मौसम प्रातः काल का माना जाता है। आप प्रातः काल जल्द उठकर अपने छत या फिर अपने बैडरूम के फर्श पर बैठकर मेडिटेशन का अभ्यास आराम से कर सकते हैं। गर्मियों के मौसम में प्रातः काल गर्मी बहुत ही कम महसूस होती है। इसलिए आप प्रातः काल जल्दी उठकर अपनी ध्यान क्रिया के अभ्यास को नियमित रूप से करें। मेडिटेशन करने से पहले अपने आवश्यकता अनुसार पानी पी लें। जिससे ध्यान क्रिया के दौरान आपका गला ना सूखे। जब हम प्रातः काल उठते है, तो हमें बहुत प्यास लगी होती है। इसलिए जब आप मेडिटेशन के लिए उठेंगे तो पानी जरूर पीएं।

मेडिटेशन को एक प्रकार से होश भी कहा जा सकता है, यानि जब हम कुछ भी करते है तो हमें अपना होश (ध्यान) बनाए रखने की जरुरत होती है। हमें अपने हर कार्य के प्रति, चाहे चलना हो, खाना हो, पहना हो या फिर व्यावसायिक कामकाज, मनोरंजन ही क्यों ना हो। हमें अपनी हर गतिविधि पर ध्यान देने की जरूरत है। हमें अपने विचारों के प्रति साक्षी भाव बनाएँ रखने की जरूरत है। ध्यान क्रिया के दौरान हमें अपने क्रोध, भय, प्रेम, आवेग, व विचारों को सिर्फ आते-जाते देखते रहना है। इस दौरान आपको इन पर कोई भी प्रतिक्रिया करना की जरूरत नहीं है।

हर कार्य पर अपना ध्यान बनाए रखें-

जब भी आप कोई कार्य करते हैं, तो आपको उस दौरान अपना ध्यान बनाए रखने की जरूरत होती है। अगर आप अपना ध्यान लगाने में नाकामयाब होते हैं, तो आपको प्रातः काल उठकर नियमित रूप से योगा व मॉर्निग वॉक करने की जरूरत है। एक-दो सप्ताह के योगा व मॉर्निग वॉक करने के बाद आप ध्यान क्रिया की शुरुआत कर सकते है। मॉर्निग वॉक के दौरान धीमी गति से चलें और अपना ध्यान बनाए रखें। अगर आपको मेडिटेशन के बारे में सही जानकारी चाहिए तो आप हमारा eka Meditation Apps  गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं। हमारे इस एप्प के माध्यम से आप मेडिटेशन की गहराई यानि मेडिटेशन के बारे में अच्छे से जान सकते है।

वैसे गर्मियों के मौसम में मेडिटेशन करना इसलिए भी बेहतर हो जाता है, क्योंकि इस दौरान हमारे शरीर में कपड़ों का बोझ भी नहीं होता है। जिससे हमारा शरीर हल्का महसूस करता है। हमारा शरीर जितना हल्का होता है, हमें ध्यान क्रिया करना में उतनी ही सुविधा होती है। इसलिए आप भाग-दौड़ भरी जिदंगी में अपने स्वास्थ को बेहतर बनाने के लिए गर्मी के इस मौसम से मेडिटेशन की शुरुआत कर सकते है। 

No responses yet

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *